Friday, 13 May 2011

more shayari

जो कभी कह कर  गए थे तुम जैसे लाखों मिल  जायेंगे बाजार  में
वही आज ना जाने क्यों हमारे कंधे पर सर रखकर रो रहे हैं |

No comments: